Monday, 21 May 2018

गिरगिट गाथा





                                                      अनायास  एक दिन बात करने लगी मै
                                                       डाल से चिपके उस विचित्र   प्राणी से
                                                   '' बड़ा ही अजीब है स्वभाव तुम्हारा
                                                       कितनी बार रंग बदलते दिन भर में ?

                                                     कभी हरा पीला , तो कभी लाल, काला
                                                     इतना  भी फैशन का गुलाम होना क्या
                                                     कि अपनी एक निश्चित पहचान ही  ना रहे
                                                     फिर  कैसे  तुम पर विश्वास करे कोई ? ''

                                                     सिर ऊँचा उठाकर बोलने लगा  वह मुझसे
                                                 ''  ठीक ही कहा तुमने कि रंग बदलता हूँ अक्सर
                                                   पर यह भी तो पूछो  ऐसा करता  हूँ  क्यों  मै
                                                     शौक है  यह मेरा या   कोई  मज़बूरी  ?                             

                                                    सच तो यह है कि  ऐसा  करने में
                                                   फैशन वैशन  का दूर तक भी  विचार नहीं                                                                                                      बस , जान बचाने की कोशिश  भर करता हूँ
                                                   तुम्ही कहो जान किसे  होती नहीं  प्यारी ?


                                                   छोटा सा जीव ठहरा , जहाँ भी जाता हूँ
                                                   हमेशा डरा और  सशंकित  हूँ   रहता
                                                   न जाने कब , कहाँ  , आहार  बन जाऊँ
                                                   घात लगाये बैठे किसी भूखे दुश्मन का

                                                    इसीलिए तो यह   युक्ति  अपनाई है
                                                   कि जहाँ जैसा रंग  हो  वैसा ही बन कर
                                                   छुप रहता ऐसे कि किसी भी शिकारी को
                                                   पड़ता दिखाई  नहीं  दूर  से   या पास से

                                                    बुरा न मानो तो मै भी कुछ पूछ  लूँ ?
                                                    रंग बदलने के लिये  मुझ पर हो  हँसते
                                                    पर यह तो बताओ तुम क्यों  ऐसा करते
                                                    तुम्हें भी क्या किसी का डर है सताता ? ''

                                                   प्रश्न उसका तीर जैसा चुभ गया मुझको
                                                   उत्तर  क्या दूँ कुछ समझ नहीं आया
                                                   सोचा नहीं था  कि प्रतिप्रश्न  कर बैठेगा
                                                   कुछ  कहने के बजाय चुप रहना ही ठीक लगा


                                                   यह  कहती भी  कैसे कि  रंग बदलना
                                                   जीवन- मरण का प्रश्न  नहीं  हमारे लिए
                                                   यह तो है अवसरवादिता की एक चाल
                                                   करते उपयोग जिसका जब भी  हो सम्भव


                                                   कि  हम तो बदलते  हैं रंग  सिद्ध करने
                                                   अपने अनगिनत  संकीर्ण  स्वार्थों को
                                                   नैतिक  मूल्यों  को  तिलांजलि  देकर भी
                                                   पूर्ण करने मन की हर एकआकाँक्षा को

                                                 
                                                  सोचते सोचते ग्लानि छाई मेरे मुख पर
                                                 देखकर  हाल  मेरा  ,वह समझ गया सब कुछ
                                                 बोला व्यंग्यपूर्वक  किन्तु  ,जाते जाते   पलटकर
                                               ''  अब तो न हँसोगी   फिर कभी मुझ पर ?''
                                                 

                                         
                                   

                         
















                                 
                                 
                                 
                                 
                                 

Saturday, 19 May 2018

THE OPTIMAL GLOW

               


                                       The most alluring of heavenly bodies
                                      Though far beyond our reach
                                       Does leave  many a glaring message
                                        Written on the  seamless    sky
                                         For us to read and follow.

                                         Set a goal for yourself, it says
                                         And wisely plan  the journey
                                         Before setting out on  the same
                                         Then go firmly onwards to arrive
                                            At  your  dream destination  

                                        Never, ever  stop or deviate 
                                        No matter what comes in the way 
                                        Grow steadily as you advance
                                        Till you achieve your full stature
                                         And the optimal glow

                                        Be a metaphor for beauty and brilliance
                                        But not boastful and vainglorious
                                       Admitting the truth in all humility
                                       That you are just a little sample
                                       Of the art of  Supreme Master !

                             

                                                                  

Tuesday, 15 May 2018

IT IS HER RIGHT .....

                 




               It is her natural right ,
                 To be born alive,
                   So let her come ,
                      Into the world,
                           Safely !
                      
                           It is her birthright,
                               To survive and grow,
                                  Stifle not her life breath
                                         Mercilessly !

                      It is her right too ,
                         To live with  dignity, 
                            And evolve to full stature,
                               Let her  achieve that ,
                                   Gracefully !

                     She is born a human ,
                        And like every human being
                         She may also  desire
                           To be just herself ,
                                Naturally!

                    Be a help and not a hurdle,
                       In  her simple journey,
                          And greet yourself on being,
                             A part of real humanity,
                                   Proudly !















Picture courtesy--
UNICEF for every child
YourQuote.in