Saturday, 16 September 2017

हिमालय



                                                      हिमालय

            हे हिमालय  !

रजत शिखरों से सुसज्जित 
गगनचुम्बी शीश गर्वोन्नत उठाये
दूर तक फैली भुजाओं  में समाहित
दिशि-दिशान्तर
क्या स्वयं शाश्वत प्रकृति के  चिर  सखा बन
अवनि पर हो स्थिर , अवस्थित ?

 या कि युग युग से धरा के शांत  पट पर
हो समाधिस्थ, सघन तप में लीन
योगी के सदृश ही 
शीत , वर्षा ताप से रह कर अविचलित
देवताओं सा प्रभामंडल सजाये
चमत्कृत करते जगत को ?

वज्र सा कठोर यद्यपि तन तुम्हारा 
निःसृत होती ह्रदय से करुणा निरन्तर
और बन गंगा सदानीरा , धरा पर
उतर आती अमृत सी जलधार बनकर
ताप-दग्ध वसुंधरा का कष्ट हरने 

शब्द में सामर्थ्य क्या जो 
कर सके अभिव्यक्त  सब उदगार मन के
और वाणी भी नहीं इतनी प्रखर जो 
कर सके सीमित समय में
अर्चना , अभ्यर्थना समुचित स्वरों में

अतः बस नत -शीश हो यह 
मौन अभिनन्दन तुम्हारा 
अंजुरी भर फूल श्रद्धा भाव के ये
कर रही अर्पित तुम्हारी दिव्यता को 

                  हे  हिमालय  !



छायाचित्र---सुमित पन्त

eUttaranchal.com



Tuesday, 8 August 2017

HIROSHIMA SPEAKS



        Hiroshima 
    That's the name I am known by
     Sure, you know me too 
     As do most of the people 
       Across the globe 
       Though for reasons not so good.

      And  why  I wish to address 
      The world today
      is to remind you 
       and everyone else 
       Of the blackest  happening
       in the history of mankind

      When I was made the first victim
      Of the most lethal weapon of war
     Ever invented by human brain 
     And tried on  civil population 

      The '' LittleBoy '' that was sent to scare me
     Was, in fact, the deadliest agent of death
     The cruellest carrier of  disaster
     The ugliest face of  human character

      The mushroom shaped monster
       So suddenly appeared in  my sky
       Eclipsing even the sun for a while
        descended down like devil himself

  Churning foam of smoke and fire
 Filled with dirt,  dust and soot
  And killer radioactive  particles 
   on the wings of poisonous gases 

    That  engulfed the earth and sky
     Sparing no one and nothing on  way
    human beings and animals ,trees and gardens                                  Homes, hospitals, schools and places of worship
      Vanished in seconds as if they had never existed

The fine morning that could have been
The beginning of a good normal day
 was suddenly turned into a dreadful night 
Of endless woes and sufferings.

Decades have passed and slipped
Into the dark lanes of history
But the  spectre of  past catastrphe
 still haunts me with horrible memories  

As the loss of life and values
Could never be fully assessed 
The wounds are still unhealed 
The pain much less forgotten 

But strange though it may sound
I wish it to be always remembered  
As the most valuable lesson in wisdom
Learnt from the blunders of the past 

And so I have got it carved  all over
on monuments and museum and parks
 To tell  the stories of endless  sorrow
that we never ought to forget

  Hoping it will help to motivate you
 to  join hands with one another 
 and strive jointly for lasting peace 
 To prevail in the world everywhere

          And to ensure that the angels of peace
           outnumber the war mongers 
           And never again on this planet
           Another Hiroshima is  made to  suffer

     





  




















      








Sunday, 30 July 2017

अतीत के पृष्ठों से .........


छाया--  प्रथम पन्त

   उमंग और ऊर्जा से पूर्ण
  मन की गहराइयों में
 प्रतिपल कुछ नवीन और उत्कृष्ट करने की
  अदम्य आकांक्षा लिये
   किया था आरम्भ एक सफ़र

         माता पिता के आशीर्वचन
         गुरुजनों की शुभाशंसा
         पढ़े सुने आदर्शों का पाथेय
         स्वर्णिम भविष्य के स्वप्न, संकल्प
         और भरपूर आत्मविश्वास का ज्योति दीप लेकर

  राहों में मिलते गए  जीवन - जगत  के
  कटु  यथार्थ,   संघर्षों के कंटकाकीर्ण वन-प्रान्तर
  नित नवीन चुनौतियों के गतिरोधी  पत्थर
  किन्तु रुकना तो कोई विकल्प न था
   ठोकर खाकर भी आगे बढ़ना ही   था  श्रेयस्कर

     
         बारी बारी से साथ जुड़ते  रहे  प्रशंसा-  निन्दा
        सफलता- विफलता ,जीवन यात्रा के वैविध्यपूर्ण अनुभव
       जिन्हें देखते सुनते , समझते  न समझते ,
        सरकते गए दिवस, मास ,वर्ष और दशक

                 
                    फिर एक दिन आ पहुंचा बिन बुलाये अतिथि सा
                     सेवा निवृत्ति नामक वह पूर्व निश्चित  दिवस
                     चिर प्रतीक्षित पर फिर भी अयाचित सा
                    जीवन के अनेकानेक विरोधाभासों की तरह
                    जो प्रिय तो थे फिर भी सहज स्वीकार्य नहीं

    पारंपरिक विदाई समारोह में
   सद्भावपूर्ण शुभेच्छाओं की बौछार
   अनगिनत स्मृतिचिह्न, सुरभित पुष्पगुच्छ
   भावभीना  प्रशस्तिपत्र , संगी साथियों के स्नेह वचन
   और उस  अपूर्व  अनुभव  के बीच
    पूर्णता का एक अद्भुत अहसास



                                           भावविह्वल ह्रदय , पर शांत , संतुष्ट मन
                                           अनगिनत मीठी यादोंकी   सौगातें समेटे
                                           घर लौटते हुए अनायास ही सोचा
                                            एक बार पीछे  मुड़कर देखूँ तो सही
                                            जीवन के इस कालखण्ड  में
                                             कैसी रही होगी अपनी भूमिका !


इस बीच जो किया -,कहा , देखा-समझा
 उसमें कितना खरा था और कितना नहीं
कितना था सार्थक और मूल्यवान
  कितना व्यर्थ  और , अनपेक्षित

                                                     प्रश्न था  सरल , किन्तु  चंद पलों में
                                                      कैसे हो पाती दशकों में किये -अनकिये की
                                                      पुनरावृत्ति और   समुचित समीक्षा
                                                        अपने ही प्रश्न का उत्तर देना
                                                               लग रहा था कितना  कठिन  !

    इसलिए बस सार -संक्षेप में किया
     इतना ही निवेदन -- कि नहीं  थी कभी
   किसी  विशेष सम्मान कीअपेक्षा
   स्वयं को मिले दायित्वों को
    यथाशक्ति  सम्पादित   करना ही   रहा
         लक्ष्य और प्रयास  सदा

                                         और आज लौट रही हूँ घर की ओर
                                          इसी जीवन -दर्शन से मिली
                                         - सहज आत्मतुष्टि का
                                            अदृश्य किन्तु  निश्चित
                                                 पुरस्कार ले कर !











                                     
















       




Wednesday, 19 July 2017

CLOUDS



    Hey amazing visitors 
       Some of the many miracles of nature 
          As you definitely are
Wonder how many magical feats you know
        To keep us mesmerised for ever
   With your   fast changing contours 
          And divinely  blended colours !

       It's most difficult to decide 
       Whether to call you  friends or foes
       Sometimes you seem to be  saviours
       Sometimes  deadly marauders 

     Pleasant beyond words you look 
      And welcomed from the core of heart
       When sighted  on a far off  corner
       Dotting  the blazing  summer sky

     Bending down on the parched landscape
     During a burning afternoon hour
     You appear no less adorable
     Than  angels from the Heaven above

     Bringing the message of God's mercy
     In the form of soothing showers
     To enliven the earth's  famished face
     And save its countless  creatures 

      Even the chain of lightning and thunder
      That comes following your trail 
      Falls as sweet musical notes              
       On the ears of the waiting sufferers

       You sure are loved and worshipped
       For all your benevolent gifts
       But the other  side of your being 
       Is rather  against your kind nature

       As  you  keep appearing again
       With frightening gestures and sounds
       Even after torrential   rain 
       That is  more than enough to sustain
    

     These dreadful   features of yours  
       Are the most awful to  witness
     Pray, show  them  seldom  or never
     And come only as cherished visitors !
  
      


PICTURE CREDIT--- PRATHAM PANT         BEEN THERE DOON THAT

RITU MATHEWS

Wednesday, 5 July 2017

गीता - उपदेश --- काव्य रूपान्तर


अद्ध्याय--- ६


                                                                 

       कर्मो में  संलिप्तरहे जो-- 
               फल की चिंता किये बिना                         
       उसके अन्दर गुण होता है                                 
               सन्यासी; योगी जितना                              
                                                               ( श्लोकसंख्या १)
                                                             

                       अनासक्त जो कर्मो में 
                                  इन्द्रिय भोगों में रह पाता
                       संकल्पों का त्यागी तब वह -
                                  नर योगी है कहलाता                     (४)

       अपने द्वारा ही  सम्भव है
              जीवन में अपना उद्धार                                  
      वरन अधोगति में फंस कर तो
               कर न सके भवसागर पार                                   

                         इस जग में कोई न किसी का
                                     शत्रु या  कि सुहृद होता
                            मानव स्वयं मार्ग में अपने
                                      फूल और कांटे बोता                               (५)

                                                                                              

अद्ध्याय-२

            सत्ता होती नहीं असत की

                       सत का कहीं अभाव नहीं
          विज्ञ  पुरुष ही इन दोनों का 
                          तत्व जानते , अन्य नहीं                   (१६)


                                       मात्र कर्म कर्त्तव्य तुम्हारा
                                                        फल पर है अधिकार नहीं
                                       फल-इच्छा से किया कर्म 
                                                          परमेश्वर को स्वीकार नहीं           (४७)


   सिद्धि-असिद्धि, समान समझ कर
                दोनों में समभाव गहो
कार्य सफल , असफल दोनों में
              एक भाव से मित्र ! रहो
                                                                                                        (४८)


                                                                                                  अद्ध्याय १८


              जो भक्तों  को  यह रहस्यमय
                            गीताज्ञान  सुनाएगा
            इसमें  कुछ  संदेह  नहीं
                     वह निश्चित  मुझको पाएगा                                                                             (६८)


               उससे बढ़कर भक्त और प्रिय
                               नहीं  जगत में है कोई --
              और न होगा कहे सुने जो
                               गीता शुभ विज्ञानमयी                                                                          ( ६९)



 
               पठन करे जो  परम  धर्म मय
                         औ''  संवाद- मयी   गीता
              ज्ञान -यज्ञ   से मुझे  भजेगा                                                                                ( ७०)
                             होगा मेरा मन-चीता                                                        



                                                   निश्छल-मन  श्रद्धालु  पुरुष  जो
                                                               गीता का शुभ  श्रवण  करें
                                                    पाप मुक्त  हो जायेंगे  वे --
                                                                   श्रेष्ठ लोक  का   वरण करें  !                                  (७१)
                                                                     















                                                                 


                                                                                                               
   श्री ईश्वरीदत्त द्विवेदी द्वारा किये गये
 श्रीमद्भागवद्गीता के हिन्दी काव्य रूपान्तर से  कुछ अंश.........














Sunday, 25 June 2017

THE SPIDER'S PARLOUR



            The Spider worked
            Through the dark of night
            Holding a ball of silken yarn
            To weave a house of her dreams

           Splendid it was indeed when finished
           Meticulously planned,
           And diligently done
           Like a flawless piece of art 

           There she sat  beside it 
           With an air of pride and content
           As if alluring everyone to visit
            Her newly created edifice

           And surely, the spider would have won
           Huge accolade for her unique talent
           As the Master artist among her tribe
          To be envied even by human craftsmen

            If only she hadn't  cunningly abused
            Her skill to hide her wicked  intents --
            To seduce unsuspecting, innocent visitors   
            And make them fall into the jaws of death!  
   
           If ever you feel unwittingly  drawn
           Towards a spot of unusual  charm
           Make sure it's fair as it appears to be
          And not the part of a spider's  plan .






Picture courtesy ----
 Pratham Pant
 BTDT ?




          

Wednesday, 14 June 2017

FROM THE SNOW TO THE SEA




From my snowy, pristine homeland 
I set out on an adventure spree
Carving my own trajectory along
 Heading towards the fathomless sea.

Having left behind the comfort of home
 I am conscious of the hardships  ahead
Knowing,  there will be hurdles to  face
And risks and dangers never known before 

But I have pledged  to  move ever on
Braving any odd that might  appear 
And  running  with time is a pre-condition
To realise a dream so ambitious and dear

So I skip gleefully on mountainous  rocks
And jump daringly into deep ravines
 Flow fearlessly across the dense woodlands
And wind my way through narrow valleys

Nothing can make me stop midway
Howsoever tough the terrain be
Nor can the most enchanting ambience
Lure me enough to change my course 

But all  through this long itinerary
I keep providing  sweet water to all --
Benefitting millions of lives on the banks
And even those who are not in sight.

And thus I  accomplish my fond journey
Covering more than a thousand miles
Before joining the magnificent seashore
And get mingled with its deep waters

                                   






PICTURE CREDIT --- 1-  RITU MATHEWS - BTDT      2-  eUttaranchal.com