Wednesday, 5 July 2017

गीता - उपदेश --- काव्य रूपान्तर


अद्ध्याय--- ६


                                                                 

       कर्मो में  संलिप्तरहे जो-- 
               फल की चिंता किये बिना                         
       उसके अन्दर गुण होता है                                 
               सन्यासी; योगी जितना                              
                                                               ( श्लोकसंख्या १)
                                                             

                       अनासक्त जो कर्मो में 
                                  इन्द्रिय भोगों में रह पाता
                       संकल्पों का त्यागी तब वह -
                                  नर योगी है कहलाता                     (४)

       अपने द्वारा ही  सम्भव है
              जीवन में अपना उद्धार                                  
      वरन अधोगति में फंस कर तो
               कर न सके भवसागर पार                                   

                         इस जग में कोई न किसी का
                                     शत्रु या  कि सुहृद होता
                            मानव स्वयं मार्ग में अपने
                                      फूल और कांटे बोता                               (५)

                                                                                              

अद्ध्याय-२

            सत्ता होती नहीं असत की

                       सत का कहीं अभाव नहीं
          विज्ञ  पुरुष ही इन दोनों का 
                          तत्व जानते , अन्य नहीं                   (१६)


                                       मात्र कर्म कर्त्तव्य तुम्हारा
                                                        फल पर है अधिकार नहीं
                                       फल-इच्छा से किया कर्म 
                                                          परमेश्वर को स्वीकार नहीं           (४७)


   सिद्धि-असिद्धि, समान समझ कर
                दोनों में समभाव गहो
कार्य सफल , असफल दोनों में
              एक भाव से मित्र ! रहो
                                                                                                        (४८)


                                                                                                  अद्ध्याय १८


              जो भक्तों  को  यह रहस्यमय
                            गीताज्ञान  सुनाएगा
            इसमें  कुछ  संदेह  नहीं
                     वह निश्चित  मुझको पाएगा                                                                             (६८)


               उससे बढ़कर भक्त और प्रिय
                               नहीं  जगत में है कोई --
              और न होगा कहे सुने जो
                               गीता शुभ विज्ञानमयी                                                                          ( ६९)



 
               पठन करे जो  परम  धर्म मय
                         औ''  संवाद- मयी   गीता
              ज्ञान -यज्ञ   से मुझे  भजेगा                                                                                ( ७०)
                             होगा मेरा मन-चीता                                                        



                                                   निश्छल-मन  श्रद्धालु  पुरुष  जो
                                                               गीता का शुभ  श्रवण  करें
                                                    पाप मुक्त  हो जायेंगे  वे --
                                                                   श्रेष्ठ लोक  का   वरण करें  !                                  (७१)
                                                                     















                                                                 


                                                                                                               
   श्री ईश्वरीदत्त द्विवेदी द्वारा किये गये
 श्रीमद्भागवद्गीता के हिन्दी काव्य रूपान्तर से  कुछ अंश.........














No comments:

Post a Comment