Sunday, 30 July 2017

अतीत के पृष्ठों से .........


छाया--  प्रथम पन्त

   उमंग और ऊर्जा से पूर्ण
  मन की गहराइयों में
 प्रतिपल कुछ नवीन और उत्कृष्ट करने की
  अदम्य आकांक्षा लिये
   किया था आरम्भ एक सफ़र

         माता पिता के आशीर्वचन
         गुरुजनों की शुभाशंसा
         पढ़े सुने आदर्शों का पाथेय
         स्वर्णिम भविष्य के स्वप्न, संकल्प
         और भरपूर आत्मविश्वास का ज्योति दीप लेकर

  राहों में मिलते गए  जीवन - जगत  के
  कटु  यथार्थ,   संघर्षों के कंटकाकीर्ण वन-प्रान्तर
  नित नवीन चुनौतियों के गतिरोधी  पत्थर
  किन्तु रुकना तो कोई विकल्प न था
   ठोकर खाकर भी आगे बढ़ना ही   था  श्रेयस्कर

     
         बारी बारी से साथ जुड़ते  रहे  प्रशंसा-  निन्दा
        सफलता- विफलता ,जीवन यात्रा के वैविध्यपूर्ण अनुभव
       जिन्हें देखते सुनते , समझते  न समझते ,
        सरकते गए दिवस, मास ,वर्ष और दशक

                 
                    फिर एक दिन आ पहुंचा बिन बुलाये अतिथि सा
                     सेवा निवृत्ति नामक वह पूर्व निश्चित  दिवस
                     चिर प्रतीक्षित पर फिर भी अयाचित सा
                    जीवन के अनेकानेक विरोधाभासों की तरह
                    जो प्रिय तो थे फिर भी सहज स्वीकार्य नहीं

    पारंपरिक विदाई समारोह में
   सद्भावपूर्ण शुभेच्छाओं की बौछार
   अनगिनत स्मृतिचिह्न, सुरभित पुष्पगुच्छ
   भावभीना  प्रशस्तिपत्र , संगी साथियों के स्नेह वचन
   और उस  अपूर्व  अनुभव  के बीच
    पूर्णता का एक अद्भुत अहसास



                                           भावविह्वल ह्रदय , पर शांत , संतुष्ट मन
                                           अनगिनत मीठी यादोंकी   सौगातें समेटे
                                           घर लौटते हुए अनायास ही सोचा
                                            एक बार पीछे  मुड़कर देखूँ तो सही
                                            जीवन के इस कालखण्ड  में
                                             कैसी रही होगी अपनी भूमिका !


इस बीच जो किया -,कहा , देखा-समझा
 उसमें कितना खरा था और कितना नहीं
कितना था सार्थक और मूल्यवान
  कितना व्यर्थ  और , अनपेक्षित

                                                     प्रश्न था  सरल , किन्तु  चंद पलों में
                                                      कैसे हो पाती दशकों में किये -अनकिये की
                                                      पुनरावृत्ति और   समुचित समीक्षा
                                                        अपने ही प्रश्न का उत्तर देना
                                                               लग रहा था कितना  कठिन  !

    इसलिए बस सार -संक्षेप में किया
     इतना ही निवेदन -- कि नहीं  थी कभी
   किसी  विशेष सम्मान कीअपेक्षा
   स्वयं को मिले दायित्वों को
    यथाशक्ति  सम्पादित   करना ही   रहा
         लक्ष्य और प्रयास  सदा

                                         और आज लौट रही हूँ घर की ओर
                                          इसी जीवन -दर्शन से मिली
                                         - सहज आत्मतुष्टि का
                                            अदृश्य किन्तु  निश्चित
                                                 पुरस्कार ले कर !











                                     
















       




Wednesday, 19 July 2017

CLOUDS



    Hey amazing visitors 
       Some of the many miracles of nature 
          As you definitely are
Wonder how many magical feats you know
        To keep us mesmerised for ever
   With your   fast changing contours 
          And divinely  blended colours !

       It's most difficult to decide 
       Whether to call you  friends or foes
       Sometimes you seem to be  saviours
       Sometimes  deadly marauders 

     Pleasant beyond words you look 
      And welcomed from the core of heart
       When sighted  on a far off  corner
       Dotting  the blazing  summer sky

     Bending down on the parched landscape
     During a burning afternoon hour
     You appear no less adorable
     Than  angels from the Heaven above

     Bringing the message of God's mercy
     In the form of soothing showers
     To enliven the earth's  famished face
     And save its countless  creatures 

      Even the chain of lightning and thunder
      That comes following your trail 
      Falls as sweet musical notes              
       On the ears of the waiting sufferers

       You sure are loved and worshipped
       For all your benevolent gifts
       But the other  side of your being 
       Is rather  against your kind nature

       As  you  keep appearing again
       With frightening gestures and sounds
       Even after torrential   rain 
       That is  more than enough to sustain
    

     These dreadful   features of yours  
       Are the most awful to  witness
     Pray, show  them  seldom  or never
     And come only as cherished visitors !
  
      


PICTURE CREDIT--- PRATHAM PANT         BEEN THERE DOON THAT

RITU MATHEWS

Wednesday, 5 July 2017

गीता - उपदेश --- काव्य रूपान्तर


अद्ध्याय--- ६


                                                                 

       कर्मो में  संलिप्तरहे जो-- 
               फल की चिंता किये बिना                         
       उसके अन्दर गुण होता है                                 
               सन्यासी; योगी जितना                              
                                                               ( श्लोकसंख्या १)
                                                             

                       अनासक्त जो कर्मो में 
                                  इन्द्रिय भोगों में रह पाता
                       संकल्पों का त्यागी तब वह -
                                  नर योगी है कहलाता                     (४)

       अपने द्वारा ही  सम्भव है
              जीवन में अपना उद्धार                                  
      वरन अधोगति में फंस कर तो
               कर न सके भवसागर पार                                   

                         इस जग में कोई न किसी का
                                     शत्रु या  कि सुहृद होता
                            मानव स्वयं मार्ग में अपने
                                      फूल और कांटे बोता                               (५)

                                                                                              

अद्ध्याय-२

            सत्ता होती नहीं असत की

                       सत का कहीं अभाव नहीं
          विज्ञ  पुरुष ही इन दोनों का 
                          तत्व जानते , अन्य नहीं                   (१६)


                                       मात्र कर्म कर्त्तव्य तुम्हारा
                                                        फल पर है अधिकार नहीं
                                       फल-इच्छा से किया कर्म 
                                                          परमेश्वर को स्वीकार नहीं           (४७)


   सिद्धि-असिद्धि, समान समझ कर
                दोनों में समभाव गहो
कार्य सफल , असफल दोनों में
              एक भाव से मित्र ! रहो
                                                                                                        (४८)


                                                                                                  अद्ध्याय १८


              जो भक्तों  को  यह रहस्यमय
                            गीताज्ञान  सुनाएगा
            इसमें  कुछ  संदेह  नहीं
                     वह निश्चित  मुझको पाएगा                                                                             (६८)


               उससे बढ़कर भक्त और प्रिय
                               नहीं  जगत में है कोई --
              और न होगा कहे सुने जो
                               गीता शुभ विज्ञानमयी                                                                          ( ६९)



 
               पठन करे जो  परम  धर्म मय
                         औ''  संवाद- मयी   गीता
              ज्ञान -यज्ञ   से मुझे  भजेगा                                                                                ( ७०)
                             होगा मेरा मन-चीता                                                        



                                                   निश्छल-मन  श्रद्धालु  पुरुष  जो
                                                               गीता का शुभ  श्रवण  करें
                                                    पाप मुक्त  हो जायेंगे  वे --
                                                                   श्रेष्ठ लोक  का   वरण करें  !                                  (७१)
                                                                     















                                                                 


                                                                                                               
   श्री ईश्वरीदत्त द्विवेदी द्वारा किये गये
 श्रीमद्भागवद्गीता के हिन्दी काव्य रूपान्तर से  कुछ अंश.........