Wednesday, 22 March 2017

पतझड़ के बाद

         

 उस सूनी सड़क से गुजरते हुये  एक दिन
 अचानक ही दृष्टि मेरी पड़ी थी उस पर
   पत्र पुष्प विहीन , निराभरण  रूप उसका  
   देख कर मन हो गया था विचलित    

    विगत वैभव की स्मृतियों    में  खोया  
    वर्त्तमान दुर्दशा पर आंसू   बहाता   सा  
     मौन रहकर  भी  जैसे  बहुत कुछ  बोलता  
    अनाकर्षक , फिर भी अपनी ओर खींचता सा !

     ठिठक गए  कदम  कुछ सोच अनायास  ही 
      व्यथा कथा  उसकी सुनने की  चाह  जागी
       पूछा क्यों हो इतने उदास प्रिय बन्धु तुम 
        कौन सा दुःख  साल रहा  तन मन को  ? 

      भरकर आह  लम्बी  बाँटने लगा दर्द अपना
    ''  सोचता हूँ  हुई क्यों दुर्दशा आज ऐसी
      कभी था  हरा  भरा संसार मेरा सुन्दर
      खींच लाता था सबको  बरबस  पास  मेरे  


               अनगिनत पँछियों का था सुखद रैनबसेरा 
                 घरौन्दे बना सपरिवार रहते थे  निश्चिन्त 
                 धूप से व्याकुल थके हारे पथिक भी तो 
                रुकते थे यहाँ शीतल छांव  को पाकर 

               और आज  यहाँ उपेक्षित किसी भिक्षुक सा
                अकेला ही झेलता  हूँ  दुर्दिन के दंश को 
                एक दृष्टि भी कोई डालता नहीं मुझ पर
                 फिर बोलो उदास नहीं होऊं मै क्योंकर ? ''

                स्नेह से  सहला  उसे आश्वस्त  किया मैंने
              ''   दुःख के दिन अब बीत चले  हैं  भाई 
                 देखो वह आती वसंत की  सवारी  है
                पतझड़ और शीत  की तो  तुम समझो  विदाई 

                 भर देंगी शीघ्र ही नयी कोंपले  तुम्हारा तन
                शीतल  सघन छांव देख  रुकेंगे पथिक भी
                 और  पंछी तो सदा से हैं परिजन से तुम्हारे
                 गूंजेगा उनका  मधुर कलरव यहाँ फिर से

               प्रतीक्षा की है तुमने बहुत , थोड़ी सी और सही
               लौटेंगी सब खुशियाँ  मौसम  बदलते ही
               नहीं विचलित  होती कभी  प्रकृति अपने  क्रम  से
                   पतझड़ के बाद फिर है  आता  वसन्त   ही    !! 

             

Photo courtesy 
Shree Ramesh Chhetry
with permission and thanks

Thursday, 9 March 2017

The Odyssey of Hill Woman



            For ages, her life has been 
            A journey of perpetual strife 
            Most of the time  unrecognised
            Generation after generation 

            Beautiful  but tough as nature itself 
            In whose lap she is born and brought up
            She enters mature womanhood 
             Very often rather early in life  

             Imbibing the spirit of hills and vales
             She grows up in the midst of tribulations
             Getting armed to face varied challenges
             That are parts of  life in these regions 

             A strange   admixture  of rare attributes 
              Diligence , courage and perseverance
             She   braves the  odds that confront her 
             Going up and down the rough terrains 

            Living  in close contact  with nature 
           As a trusted friend and  supporter
            The jungles and trees and rivers and streams
              Are forever her fond companions 

              Long before others , she had come to realise
              That forests are the life lines of  hills
               And waged a battle against felling of trees
              By clinging to them in ultimate protest  

               The hill woman's worry  now a global concern
               Is a  belated  recognition of her vision and intent 
               That to save environment we must preserve forests
               With all their flora and fauna intact .


                
      INSPIRATION---------
LIFE AND WORK OF GAURA DEVI , RENOWNED WORLD OVER FOR THE FAMOUS ''CHIPKO MOVEMENT ''              





            
                

Saturday, 4 March 2017

 

  लो फिर आ धमकी  वह नन्हीं गौरय्या
                चोंच में   दबाये  एक  छोटा सा तिनका
                खिड़की पर लगे कूलर की छत पर
                साधिकार आ बैठी न जैसे कोई डर
                 घोंसला बनाने   का करके इरादा

      कैसी भोली , नासमझ  है गौरय्या  !
     
                   समझाया था  उसको  कई  बार   मैंने          
                     कि   कहीं और जाकर बनाये घरोंदा
                      उड़ाने    की कोशिश   की डरा धमका कर
                      पर  सुनती  कहाँ है वह कभी किसी की

         बड़ी हठीली  है मूर्ख  गौरय्या  !

                      कठोरता  दिखा कर भी था रोकना   चाहा
                       फेंक दिए एक बार  सब तिनके उठाकर
                      हार  मान   ताकि चली  जाय  और कहीं
                      पर वह तो फिर फिर  लौट आई है   इधर ही

        छोटी सी है  पर  बड़ी  निडर  गौरय्या !

                        पूछ ही बैठी मै आखिर तब उस से
                         चाहती हो क्यों यहीं  पर घर बसाना
                        बताया था न   तुम्हे  सही नहीं है  जगह यह
                       क्यों  खोज लेती  नहीं  ठांव  कोई और कहीं ?


          पल भर सोच  फिर  चहचहाई  गौरय्या  !

                   , ''  मुझे तो यहीं लगती है  पूरी   सुरक्षा
                       क्योंकि है भरोसा   मेरा   तुम  पर यह पक्का
                        कि नहीं  पहुँचाओगी  कभी हानि मेरे घर को
                         न ही करने दोगी  किसी और को भी ऐसा ''


        बात सुन उसकी दिल मेरा भर आया
       थोड़ी   सिरफिरी पर प्यारी  है गौरय्या !






































































































































































  

Thursday, 2 March 2017

THE ONE AND THE MANY

The snow- capped majestic mountain
 Oversees the landscape beneath
 Like a mighty monarch seated
On a throne high above the earth        

Spread out at the feet below 
Flowery carpets decorate the floor 
Doling out fragrance and  cheers 
And the magic of rainbow colours

 Content in its sovereign status 
The mountain is a picture of grace 
While myriads of minor creatures
 Flourish under its benign   space

And apart from the poetic musings
We do also realise the  truth
That all are parts of Nature's artwork 
 displayed  on the canvas of earth

Be it the imposing  mountain 
Or vast desert expanse 
Broad -bosomed rivers or seas
Or the most trivial grasslands 

And we in our limited times
Can only praise  and  honour 
 this magnificent craft of Nature
Perfected by the Supreme Creator.


                                                                                                                 Picture Courtesy  ---
                                 Amazing Nature 
                                                Mount Fuji Spring , Japan