Thursday, 7 April 2016

अथ स्वागतम ! शुभ स्वागतम !



पहनकर बहुरंगी  परिधान
 धरा करती  किसका आह्वान ?


भ्रमर लाये किसका संदेश
तितलियां  देतीं  क्या निर्देश ?

सुरभि आप्लावित  वातावरण
दे  रहा  किसको आमंत्रण ?

पवन की गति होती क्यो मंद
कर  रहा       बोझिल  क्या मकरंद ?
  पत्र पुष्पों   की बंदन वार
 लगी क्यो वन उपवन के द्वार ?

कोकिला ले कर पंचम तान
कर  रही किसका गौरव गान ?

पाँवों    से सिर तक खिला पलाश
छलकता किसके प्रति उल्लास ?

किसलिए बौराया  है आम
कर रहा झुक-झुक  किसे  प्रणाम ?


छा रहा चहु दिशि  नव जीवन
भला किसका यह अभिनंदन ?

अतिथि वह कौन अनूप विशिष्ट
स्वयम वसुधा सुंदरि  का इष्ट  ,

 व्यक्त करने आदर  , अनुराग
 बिछाया पथ  पर  राग पराग

   हुआ  मन  भी   वासंती  आज
   आ गये   सचमुच  क्या ऋतुराज ?


    ,






2 comments: